डॉ. भीमराव अम्बेडकर

 

            डॉ. भीमराव अम्बेडकर

डॉ. भीमराव अम्बेडकर(संविधान सभा के प्रारूप समिति  के  अध्यक्ष डॉ. भीमराव अंबेडकर को भारतीय संविधान का जनक,भारतीय संविधान का शिल्पकार ओर आधुनिक भारत का मनु कहा जाता है)

  • जन्म – 14 अप्रैल 1891 मे महू ,ब्रिटिश भारत (मध्यप्रदेश मे)
  • मृत्यु – 6 दिसंबर 1956 (उम्र 65 दिल्ली भारत)
  • राष्ट्रीयता – भारतीय
  • शिक्षा – A. PH.D, D.SC. LL.D D.LIT.
  • विद्यालय –मुंबई विश्वविद्यालय कोलम्बिया, लंदन विश्वविदयालय,
  • संस्था –स्वतंत्र लेबर पार्टी, समता सैनिक दल, अनुसूचित जाति फेडरेशन। भारत की बोद्ध सोसाइटी !
  • उपाधि – भारत के प्रथम कानून मंत्री, संविधान सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष !
  • राजनीतिक पार्टी – राजनीतिक आंदोलन ओर भारतीय रिपब्लिक पार्टी!
  • धर्म – बोद्ध धर्म,
  • जीवनसाथी – रामाबाई अंबेडकर, विवाह 1906 (सविता अम्बेडकर,विवाह,1948)
  • पुरस्कार – भारत रत्न, सन-1990

डॉ. भीमराव अम्बेडकर

Mother Teresa – मदर टेरेसा

for more info- Ajinomoto-धीमा जहर

 

डॉ. भीमराव रामजी  अंबेडकर (14 अप्रैल 1891 – 6 दिसंबर 1956) एक विश्व स्तर के थे! भीमराव जी का जन्म एक  गरीब घर हुआ  था ! बाबासाहेब  ने अपना जीवन हिन्दू  धर्म की ओर भारतीय समाज मे सर्वव्यापीत  जाति के विरुद्ध मे बिता दिया ओर उन्होने आधुनिक भारत मे बोद्ध आंदोलन को प्रारम्भ करने का श्रेय भी दिया जाता हे ! बाबासाहेब को भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया है! जो भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भी है!

उन्होने पुस्तक “इवोल्यूशन ऑफ प्रोविनिशअल फिनांस इन ब्रिथिश इंडिया” को प्रकाशित किया!

1923 मे उन्होने अपना शोध  ‘प्रॉब्लेम्स ऑफ द रूपी’  (रूपये की समस्या ) को पूरा किया!

1916 मे उनको एक शोध के लिए पी एच.डी.से सम्मानित किया!

8 जून 1927 को कोलम्बिया विश्वविद्यालय द्वारा पी एच.डी. प्रधान की!

1920 मे मुंबई मे उन्होने “साप्ताहिक मूकनायक” प्रकाशन की शुरुआत की!

उन्होने “बहिष्कृत हितकारिणी सभा की स्थापना भी की!

1926 मे वो मुंबई विधान परिषद के एक मनोनीत सदस्य बन गये!

1927 मे डॉ भीमराव अंबेडकर ने छुआछूत के खिलाफ एक व्यापक आंदोलन शुरू करने का फैसला किया!

1927 मे अपनी दूसरी पत्रिका “बहिष्कृत भारत” शुरू की!

1936 मे अंबेडकर ने “स्वतंत्र लेबर पार्टी” की स्थापना की!

1937 मे केंद्रीय विधान सभा चुनावो मे 15,सीटे जीती!

उन्होने अपनी पुस्तक “जाति के विनाश” प्रकाशित की जो न्यूयोर्क मे लिखे एक शोधपत्र पीआर आधारित थी!

1941 व 1945 के बीच मे उन्होने पुस्तके ओर पर्चे प्रकाशित किए जिनमे “थोट्स ऑन पाकिस्तान” भी शामिल है! जिसमे उन्होने मुस्लिम लीग की मुसलमानो के लिए एक अलग देश पाकिस्तान की मांग की आलोचना की “वॉट कॉंग्रेस एंड गांधी हैव डन टू द अनट्चेबल्स”के साथ!

अंबेडकर ने अपनी राजनीतिक पार्टी को “अखिल भारतीय अनुसूचित जाति फेडरेशन  मे बदलते देखा!

1946 मे भारत मे आयोजित संविधान सभा के चुनाव हुये जिसमे खराब प्रदर्शन किया!

1948 मे हू वर द शूद्राज? की उत्तर कथा “द अनटचेबल ए ओरिजन ऑफ अनट्चेबिलिटी” मे हिन्दूधर्म को लताड़ा!

संविधान सभा ने 26 नवम्बर 1949 को  संविधान को अपना लिया !

1955 मे उन्होने भारतीय बुद्ध महासभा (बोद्ध सोसाइटी ऑफ इंडिया )की स्थापना की!

उन्होने अपना अंतिम लेख 1956 मे “द बुद्ध एंड हीज धम्म” को पूरा किया!

ब्रिटिश शासन के अधीन भारत के सांविधानिक विकास की 3 अवस्थाए है!

पहली अवस्था, (1773 ई.से 1858 ई.तक )1773 ई. के रेग्युलेटिग एक्ट,1784 के पिट्स इंडिया एक्ट,1793,1813,1853  के चार्टर अधिनियमो द्वारा भारत शासन सुधार ब्रिटिशसंसद द्वारा निर्मित लिखित प्रवृति रही!

दूसरी अवस्था, मे 1861,1892 एव 1909 के भारतीय परिषद अधिनियमो द्वारा प्रांतो के गवर्नर एवं भारत के गवर्नर जनरल की कार्यकारिणीको विस्तारित किया गया!

तीसरी अवस्था,1919 एवं 1935 के भारतीय शासन अधिनियमो द्वारा विधायी परिषद प्रतिनिधित्व कर 1919,के एक्ट ने प्रांतो मे द्वेध सरकार ओर 1935 के एक्ट ने प्रांतो मे उत्तरदायीसरकार की स्थापना का मार्ग प्रशस्त किया गया!

 

 

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *