pudina (पुदीना) का उपयोग ग्रीष्म ऋतु में अधिक मात्रा में किया जाता है, यह हमारे शरीर में ठंडक बनाये रखता है गर्म मोसम के लिए पुदीना एक अद्भुत ओषध है! पुदीना आसानी से मिलने वाला एक पोधा है, इसके अनेक उपयोग आप जानते ही होगे, इस बहुगुणी पोधे के कुछ खास बाते आपके लिए हम लाये है जो आपके लिए इस गर्मी के मोसम में काफी फायदेमंद रहेगे, जिससे आप अपना और अपने परिवार का अच्छे से ख्याल रख पाए!

जानिए योग का सत्य click here

नाम –  Mentha spicata.

हिंदी नाम– पुदीना !

संस्कृत नाम – रोचनी, पोदिनक !

स्वरूप- पुदीना एक बहु वर्षीय क्षीप होता है 1 से 2 फीट उचा होता है, पुष्प बैंगनी रंग के पाए जाते हैं  और गहरे-हरे रंग के होते हैं इसके पत्तो का उपयोग दवाइयों के अंदर किया जाता है!

pudina

सामान्यतः यह संपूर्ण भारत में पाया जाता है इंग्लैंड के उत्तरी भाग इसका मूल स्थान है

रसायनिक संगठन-

पुदीना की पत्तियों में

  • Fat 1%
  • Cholesterol 0%
  • Sodium 1%
  • Potassium 13%
  • Carbohydrate 8%
  • Protein 6%

पुदीना के पत्तियों के गुण-

गुण- लघु, रुक्ष, उष्ण

विपाक – कटु

रस- कटु

वीर्य – उष्ण

त्रिदोष पर प्रभाव-

रुक्ष और तीक्ष्ण होने के कारण पुदीना वात और कफ का शमन करता है!

स्थानिक प्रयोग-

स्थानीय उपयोग करने पर यहां वेदना नाशक होता है अथवा दर्द को कम करने के लिए इसके पत्तियों का लेप लगाया जाता है!

दुर्गंध को समाप्त करता है जन्तुग्न अथार्त एंटीबायोटिक होता है व्रण या घाव को तुरंत भरता है शरीर पर चोट लगने पे इसके पत्तो को पेस्ट बना कर लगाया जाता है, जिससे घाव जल्दी भरने लगता है!

आंतरिक प्रयोग

पाचन-

यह भोजन मैं रुचि को बढ़ाने वाला होता है इसके प्रयोग से भोजन में रुचि बढ़ती है

दीपक-

यह पाचन  अग्नि  को बढ़ाने वाला होता है जिन लोगों की अग्नि मंद होती है या फिर भोजन सही तरीके से नहीं पचता उन लोगों को पुदीना का उपयोग भोजन में करना चाहिए

वमन (vomiting) को रोके

पेट की गेस को ख़तम करे-

वतानुलोमक है अथार्त वायु का अनुलोम मन करता है, पेट की गेस को ख़तम करता है, जिस किसी को भी पेट में गेस की समस्या रहती है उसे सुबह खाली पेट 2-3 पुदीना के पत्ते चबा कर खा लेने चाहिए इससे पेट की गैस में बहुत फायदा मिलता है और पेट में आटोप, आध्मान की समस्या भी खतम हो जाती है

जलन से राहत-

तेज धूप के कारण  यदि शरीर का कोई भाग झुलस गया हो तो उस पर पुदिने को पिस कर लगाने से काफी आराम मिलता है, जलन कम होती है और ठंडक होने से राहत मिलती है!

पुदीना पानी-

pudina

निम्बू पानी की ही तरह आप पुदीना-पानी भी बना सकते है इसके लिए पुदीने को पिस कर पेस्ट बना ले उसको छान कर थोडा पानी मिला कर और थोड़ी चीनी मिला कर पीने के लिए उपयोग कर सकते है! इससे आपको गर्मी से राहत मिलेगी और पाचन में भी सुधार रहेगा!

नहाने में उपयोग –

नहाने के पानी में पुदीने का रस और आधा नींबू मिला ले, पुदीना में  एंटीबायोटिक गुण होते है जिससे गर्मी के कारण बहने वाले पसीने से उत्पन्न खुजली, दुर्गंद आदि से छुटकारा मिलता है !

Acidity में उपयोग –

पुदीना को थोडे से पानी में पिस कर उसमे भुना जीरा और थोडा सा निम्बू और नमक डाल कर पिने से Acidity में कभी राहत मिलती है साथ ही पाचन में भी सुधार होता है ! और खट्टी डकारे आना भी बंद हो जाती है !

उपयोग में लिए जाने वाले भाग और मात्रा –

pudina

पत्तिया का रस  – 5-10 ml

तेल – 1-3 बूंद तक!

For Buy fresh pudina click hare

For buy natural pudina powder click here

For buy pudina oil click here

For more information click here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *